दादी के बोल सरल, सरस, सहज और गूढ़

Author : Om Prakash Nemani

Binding : Paperback

Publication Date : November 2018

149.00

दादी के बोल सरल, सरस, सहज और गूढ़

149.00

Didn't find any suitable package?

Fill an enquiry form and share your requirements with us, our team will contact you soon with a suitable package for you

Enquire Now

पुरानी प्रचलित कहावतों और मुहावरों में छुपे हुए आध्यात्मिक तथ्यों को प्रकाशित करना

About Author

लेखक का परिचय
श्री ओम प्रकाश नेमानी
६७२, फर्न्स पैराडाइस ,
दोडनकुण्डी,
बेंगलुरु – ५६००३७

श्री ओम प्रकाश नेमानी ने लखनऊ यूनिवर्सिटी में शिक्षा प्राप्त की, उन्हें स्वर्ण पदक से श्री वी. वी. गिरी, भारत के पूर्व राष्ट्रपति द्वारा सम्मानित किया गया था| वे एक संभ्रांत परिवार से आते हैं| उन्हें जीवन के विभिन्न क्षेत्रों का अनुभव है| वे ८० वर्ष की आयु में भी पूर्ण रूप से स्वस्थ तथा कार्य शील हैं| पिछले ३ वर्षों से उनका संपर्क सदगुरु श्री रमेश जी, पूर्णा आनन्दा आश्रम, हैदराबाद से हुआ और उसने उनके जीवन में क्रन्तिकारी परिवर्तन कर दिया|
अब वे अपना समय, अध्यन एवं पुस्तकें लिखने में व्यतीत करने में, अधिक आनंद का अनुभव करते हैं| उनकी पुस्तकें जीवन के विभिन्न क्षेत्रों में उनके किये गए अनुभवों, घटनाओं तथा प्रचलित कहानियों पर आधारित होती हैं| उनको आध्यात्मिक दृष्टि से कैसे देखा जाये, यह उनकी विषेशता है|
उनकी एक पुस्तक अंग्रेजी में ‘हैप्पीनेस २४/७’ प्रकाशित हो चुकी हैं, वह पाठकों द्वारा अत्यंत सराही गयी है| उनकी दूसरी पुष्तक अंग्रेजी में ‘कृष्णा दी सुपर कॉन्शसनेस’ छप रही है और शीघ्र ही प्रकाशित होने जा रही है|
यह पुस्तक ‘दादी के बोल’ उन्होंने हिंदी में लिखी है| इसमें उन्होंने कहावतों और मुहावरों द्वारा जीवन की सच्चाइयों को आध्यात्मिक दृष्टि से देखने का अनूठा प्रयास किया है|
उनकी पुस्तकें ऑनलाइन अमेज़न तथा फ्लिपकार्ट आदि पर भी प्राप्त की जा सकती हैं| उनकी ईमेल ompnem@gmail.com है|

DIMENSIONS

5.5 x 8.5 in

LAMINATION

Gloss

BINDING

Paperback

PAGE COUNT

120

ISBN

9789388573115

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “दादी के बोल सरल, सरस, सहज और गूढ़”

Publish Now

A person using his mobile phone and a laptop

Schedule A Call